7:55 AM | Monday, March 4, 2024
lang logo

रीसेंट आर्टिकल्स

जम्मू पुलिस ने अवैध हथियार रखने वाले ९७ लोगों को दबोचा

आतंक प्रभावित प्रदेश जम्मू कश्मीर में पुलिस को दोहरी भूमिका निभानी पड़ती है। आतंक के साथ अपराध पर भी अंकुश लगाने की चुनौती पुलिस पर रहती है। प्रदेश की शीतकालीन राजधानी जम्मू में एक तरफ अपराध की सबसे अधिक वारदातें होती है। इसके साथ ही वहीं, जम्मू पुलिस इन घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कोर कसर नहीं छोड़ रही।

Read: जम्मू: जन्म के साथ बच्चे का बनेगा आधार, सभी अस्पतालों में लागू होगी यह योजना

- Advertisement -

बीते करीब डेढ़ वर्ष में जिला जम्मू पुलिस ने अवैध हथियार रखने वाले ९७ लोगों को दबोचा कर शहर होने वाली कई बड़ी वारदातों को टाला है।

बीते कुछ समय में जम्मू में कई शातिर गिरोहों ने अपने जड़े बनाने की कोशिश की है, ताकि वे फिरौती, अपहरण, सुपारी कीलिंग जैसे जघन्य अपराध को अंजाम दिया जा सके।

- Advertisement -

जानकारी के अनुसार पुलिस ने इस दौरान भारी मात्रा में देसी कट्टे, १२ बोर की पिस्तौल के अलावा तेजधार हथियारों को भी जब्त किया। इस दौरान कई ऐसे नेटवर्क भी ध्वस्त किए गए है जो बाहरी राज्यों या जेल के भीतर से चलाए जा रहे थे।

अवैध हथियार रखने वालों की धर पकड़ करने के लिए एसएसपी जम्मू चंदन कोहली के नेतृत्व में एक विशेष टीम बनी हुई। जिनका काम उन लोगों पर नजर रखना और उनकी धर पकड़ करना है जो अवैध हथियारों का प्रयोग कर वारदातों को अंजाम देते है।

- Advertisement -

जेल से चल रहे फिरौती के धंधे का भंडाफोड़ किया था : जम्मू पुलिस ने शहर के बड़े व्यापारियों और ठेकेदारों को जान मारने की धमकी देने और दहशत फैलाने के मकसद से उनके घरों पर हमला करने वाले एक गिरोह बीते वर्ष भंडाफोड़ किया था।

पुलिस जांच में यह बात सामने आई थी कि रसूखदार लोगों से फिरौती मांगने का यह धंधा देश की सबसे संवेदनशील जेलों में शामिल कोट भलवाल जेल से चल रहा था। इस गिरोह को हत्या, हत्या के प्रयास, अवैध हथियार रखने का आरोपित रायल सिंह कोट भलवाल में बंद रह कर चला रहा था।

जम्मू पुलिस ने इस नेटवर्क में शामिल सभी पांच लोगों को गिरफ्तार कर उनसे १५ देसी कट्टे बरामद किए थे।

जिले में अपराध मुक्त और शांति स्थापित रखने के लिए लोगों का सहयोग जरूरी है। आम शहरी पुलिस के आंख व कान है।

उनसे मिलने वाली सूचनाओं से ही पुलिस अपराध पर अंकुश लगा सकती है। जम्मूवासी पुलिस को पूरा सहयोग देते रहे है, जिस कारण से पुलिस शहर में होने वाली बड़ी वारदातों और गैंगवार को टालने में कामयाब रही है। यह सब जानकारी चंदन कोहली, एसएसपी जम्मू द्वारा दी गई।

Read: Rajouri terror attacks- Locals demand justice for families of deceased civilians

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

रिलेटेड आर्टिकल्स

Latest Posts

जरुर पढ़ें

झारखंड में रांची के कांके स्थित उपरकोनकी के मरवा गांव में 20.5 एकड़ में बना मनरेगा पार्क

झारखंड, 01 दिसंबर (वार्ता) आपने फ्लावर पार्क या फूड पार्क के बारे में जरूर सुना और देखा होगा, लेकिन बात अगर मनरेगा पार्क की...

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के तीन सक्रिय मामले घटने से इनकी कुल संख्या घटकर 27 रह गयी है

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के तीन सक्रिय मामले घटने से इनकी कुल संख्या घटकर 27 रह गयी है। राजधानी में इस महामारी से ठीक...

पेरवोमाइस्क के अस्पताल में गोलाबारी , छह लोगों की मौत

Pervomaisk hospital, 01 जनवरी (वार्ता/स्पूतनिक): यूक्रेन में लुहांस्क क्षेत्र के पेरवोमाइस्क शहर के एक अस्पताल में यूक्रेन के सैनिकों द्वारा की गई गोलाबारी में...

इजरायली सेना के साथ झड़प में फिलीस्तीन के दो नागरिकों की मौत

यरुशलम, 01 दिसंबर (वार्ता): वेस्ट बैंक के उत्तर में स्थित जेनिन शहर में इजरायली (Israeli) सेना के साथ संघर्ष में फिलिस्तान के दो नागरिकों...

IIT बॉम्बे में हॉस्टल की 7वीं मंजिल से कूदकर छात्र ने कथित तौर पर की आत्महत्या, जांच शुरू

मुंबई: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT Bombay) मुंबई में एक 18 साल के छात्र की पवई स्थित संस्थान के हॉस्टल की सातवीं मंजिल से गिरने...

संपर्क में रहे

सभी नवीनतम समाचारों, ऑफ़र और विशेष घोषणाओं से अपडेट रहने के लिए।

सबसे लोकप्रिय