11:10 AM | Tuesday, June 25, 2024
lang logo

रीसेंट आर्टिकल्स

चीन में फुट बाइंडिंग का इतिहास

फुट बाइंडिंग – ज्ञात शरीर संशोधन का विशिष्ट रूप पैर बंधन। यह प्रथा चीन में लगभग १०वीं शताब्दी से सांग राजवंश के दौरान शरू हुआ और यह एक हजार से अधिक वर्षों तक जारी रहा।

१९१२ में इस प्रथा को अवैध बना दिया गया। युवा लड़किया अपने पैरों को बैंडेज से बांधती थी ताकि उनके पैर छोटे हो जाए। छोटे पैर सुंदरता और उच्च वर्ग की सदस्यता के निशानी थे।

- Advertisement -

Read: NEW YEAR 2023- नए साल पर मंदिरों में लगी भीड़

लोगों मे यह मूल रूप से एक के साथ शुरू हुआ। नर्तकी जो सम्राट के लिए प्रदर्शन करती थी उसने अपने पैरों को बांध लिया था। उसने अपने पैरों को प्रदर्शन करने के लिए आधा चाँद के आकार का बना लिया था। वह विशाल कमल के फूल पर विशिष्ट नृत्य करती थी। सम्राट को यह महिला बहुत ही सूंदर लगी।

चीन में अन्य महिलाएं उनकी बेटियों को नर्तकी की तरह सुंदर बनाने के लिए उसके पैरों को बांधने का शुरआत किया।

चीन में फुट बाइंडिंग

- Advertisement -

यह प्रथा उन युवतियों पर शुरू हुई जो पाँच और सात साल की उम्र के बीच थी। युवा होने पर उन्हें तैयार करने के लिए कई साल पहले से ही उनके माता-पिता या दादा-दादी उनके पैरों को एक जड़ी बूटी के मिश्रण में भिगोना शुरू कर देते थे। जब लड़कियां तैयार होती थी, कि वे अपना पैर बंधवाए तो फ़िर वे चार छोटी उँगलियाँ लेंकर, पैर की उंगलियां का नेतृत्व अकेली बड़ी पैर की उंगलि करती थीं।

उन्हें पैर के नीचे से लपेटकर पट्टी को वे पूरी ले लेते, पैर की ओर इसे एक मेहराब आकर मे मोड़ देते। यह बेहद दर्दनाक प्रक्रिया थी और जवान लड़कीयों को चलने में बहुत मुश्किल होती थी।

- Advertisement -

हर हफ्ते पैर को खोल दिया जाता था, धोया और फिर से और भी सख्ती के साथ लपेटा दिया जाता था। कुछ वर्षों मे पैर सुन्न हो जाता था। समय और दबाव से पैर कमल के आकर सा बन जाएगा, संभव: तीन इंच के करीब।

१९१२ में इस प्रथा को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया था, लेकिन यह परंपरा कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी जारी हैं। १९४० के दशक के अंत तक चीन में कुछ बुजुर्ग महिलाएं थी जीनके पैर बंधे थे लेकिन जल्द ही यह सचमुच अतीत की बात हो जाएगी।


अधिक जानकारी के लिए

लास्ट गोल्डन लोटस: द सीक्रेट ऑफ चाइनीज फुटबाइंडिंग (2017) | पूर्ण वृत्तचित्र फिल्म
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

रिलेटेड आर्टिकल्स

Latest Posts

जरुर पढ़ें

अजमेर: ख्वाजा की महाना छठी परंपरागत तरीके से मनाई

अजमेर 01 दिसंबर (वार्ता): राजस्थान में अजमेर स्थित ख्वाजा गरीब नवाज की महाना छठी आज परंपरागत तरीके से बहुत ही शिद्दत के साथ मनाई...

लव जिहाद , धर्मांतरण निरोधक कठोर केन्द्रीय कानून की मांग

नयी दिल्ली, 01 दिसंबर (वार्ता): विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने 'लव जिहाद' को जिहाद के विभिन्न स्वरुपों में सबसे वीभत्स, क्रूर और अमानवीय बताते...

 खरगोन: बड़वाह उप जेल से विचाराधीन कैदी फरार

 खरगोन: 01 दिसंबर मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के बड़वाह स्थित उप जेल से आज पुताई करने के दौरान एक विचाराधीन कैदी फरार हो गया।...

खेल: 2023-24 में दो सुपर 100 आयोजनों की मेजबानी करेगा भारत

भारत की मेजबानी, 01 दिसंबर (वार्ता) विश्व बैडमिंटन संघ ने 2023 और 2024 कैलेंडर के लिये भारत को दो सुपर 100 टूर्नामेंटों की मेजबानी...

शिवराज ने निभाया वचन, कृतिका के विवाह में पहुँची आर्थिक सहायता

शिवराज, 02 दिसम्बर (वार्ता): मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज धार ज़िले के निसरपुर में खरगोन के दंगे में घायल शिवम की...

संपर्क में रहे

सभी नवीनतम समाचारों, ऑफ़र और विशेष घोषणाओं से अपडेट रहने के लिए।

सबसे लोकप्रिय